मुझे तेरी जरूरत है

28 मार्च

इस कदर उबे हैं जिंदगी से कि अब खुद से नफरत है,
सब कुछ लुटने के बाद भी दिल को अभी हसरत है,
अभी भी इसे उम्मीद है कि तुझे पा लेगा ये,
मेरी हर आह कहती है मुझे तेरी जरूरत है |
……………………………………… Shubhashish(2000)

6 Responses to “मुझे तेरी जरूरत है”

  1. amrish. सितम्बर 28, 2008 at 5:06 अपराह्न #

    ek shakhsa mere katla ka ailan kar gaya, saari mushkile meri aasan kar gaya !

  2. Shubhashish Pandey अक्टूबर 2, 2008 at 6:06 पूर्वाह्न #

    kya baat hai amrish sahab bahut khoob

  3. Shubhashish Pandey 'Aalsi' सितम्बर 4, 2013 at 2:24 अपराह्न #

    shukriya abhishek ji

  4. savita agarwal अगस्त 19, 2015 at 8:10 पूर्वाह्न #

    प्यार की गहन अनुभूति, संवेदना की परतें, कई सारे अनुभव और इन सारी बातों कि बख़ूबी अभिव्यक्ति है आपकी कविता…..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: