फोर्थ इयर में आ के

23 अप्रैल

फोर्थ इयर में आ के जिदगी हो गई जंजाल है,
मेरे बिन गर्ल-फ्रेंड के यारों का, हो गया बुरा हाल है,
आपने साथ वालियों को देख देख के ऐसे बोर हुए
अब तो इनको हर faculty लगती केवल माल है.

कुछ की तो बिमारी अब हो गयी परमानेंट है,  
शादी-शुदा से ही इनका जुड़ जाता सेंटीमेंट है,
तुम्हे लड़कियां नहीं मिलती क्या ? पूछने पे जवाब देते हैं,   
“क्या करें यार अपना टेस्ट ही डीफेरेंट है” |
 …………………………. Shubhashish(2006)

अगर मेरे किसी पुराने दोस्त को बुरा लगा हो की उसके sentiments का मैंने मजाक उडाया है तो वो अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए स्वतंत्र है🙂
अपनी भड़ास निकलने के लिए कम से कम एक बार फोन तो करे😉  ………

8 Responses to “फोर्थ इयर में आ के”

  1. Abhishek अप्रैल 23, 2008 at 7:13 पूर्वाह्न #

    अरे दोस्त ये तो सब की कहानी है, बस 4th इयर ही क्यों🙂

  2. anurag arya अप्रैल 23, 2008 at 7:46 पूर्वाह्न #

    कुछ की तो बिमारी अब हो गयी परमानेंट है,
    शादी-शुदा से ही इनका जुड़ जाता सेंटीमेंट है,
    तुम्हे लड़कियां नहीं मिलती क्या ? पूछने पे जवाब देते हैं,
    “क्या करें भैया अपना टेस्ट ही डीफेरेंट है” |
    kya baat hai….

  3. Kumar Varun अप्रैल 23, 2008 at 9:49 पूर्वाह्न #

    Kutte-Kamine !!

    Bhavnaaon ka mazaak udate ho….

  4. Kumar Varun अप्रैल 23, 2008 at 10:29 पूर्वाह्न #

    (my previous comment is questioned as it’s a public site so main apni bhadas dusre kuch acchhe shabdo mein nikal raha hoon,
    Aandey ab isse achhe SHABDO ka prayog nahi kar paaunga tumhare liye)

    Shwaan, Nikrisht, NirLajj, Adhami, Nishachar, Naradham, Paapi, KuLhanta, KaakChesta VakoDhayanam, DuShashan, DushCharitra,

    Dusht, paapi , neech, Naradham (* Special tahnks to My Hindi Teacher in class 7th)

    Bhavnaaon ka mazaak udate ho….

  5. shubhashishpandey अप्रैल 23, 2008 at 10:35 पूर्वाह्न #

    ha ha ha
    dhanyavad varun bhaiya

    waise bhi mujhe pahle wale shabd bhi achhe lage
    bas baat thodi public image ki hai😉
    warna tumhe bhi pata hai hum log to in sab se upar uthh chuke hain

    ab tumhari pol main public karoonga to zahir hai tum kuchh pratikriya to public karoge he🙂

  6. shubhashishpandey अप्रैल 23, 2008 at 10:37 पूर्वाह्न #

    Anurag Ji aur Abhishek ji aap log ka baut bahut dhanyvad🙂

  7. mehek अप्रैल 23, 2008 at 11:24 पूर्वाह्न #

    🙂;)mazedar hai.

  8. jyoti सितम्बर 6, 2008 at 12:27 अपराह्न #

    hi! i like ur poems. i am participating in kavita compitition on hindi divas in my school.could u pleeeeeeez send some more hasya,patriotic,and sarcastic poems within one week.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: