मौसम

3 मई

 …Unfortunately a true Love story

 

a true love story

 

अजीब सी खामोशी के साथ धीमी बरसात है
शायद आज फिर से एक लम्बी रात है
निहारती हैं एक टक आँखे बाहर के मौसम को,
फिर से याद आ रही किसी मौसम की हर बात है

वो सुरूर मोहब्बत का, वो आँखों की प्यास
वो बेताब धड़कने, वो मिलने की आस
वो तन्हाईयों में अक्सर उनकी तस्वीर से बातें,
उनसे आँखे टकराने पर वो अजीब सा एहसास

उनके खयालो से मेरा दिल महकता था हर पल
उनके दिखने से मेरे खुशियों में होती थी हलचल
एक झलक के लिए पागल हम कोई अकेले नहीं थे
देख के मौसम को मौसम भी हो जाता था चंचल

जिंदगी खुश थी और मौसम खुशगवार था
पर शायद इतनी खुशियों से वक़्त को इंकार था
जाने क्या सोच कर ठुकरा दिया मौसम ने मुझे
मेरे सामने तो बस सवालों का अंबार था

मौसम में कई नए फूल खिलने लगे थे
जैसे तैसे हम अपने ज़ख्म सिलने लगे थे
अब मौसम के दिल का कुमार कोई और था
कई सवालों के जवाब भी हमे मिलने लगे थे

खैर!!
अब बहुत दूर हो चुके हैं अपनी जिंदगी के रास्ते
शायद दर्द भी ढल जाये यूँ ही आस्ते आस्ते
जाने क्यूँ समझ नहीं पाया इस छोटी सी बात को
अरे! मौसम तो होता ही है बदलने के वास्ते …
…………………………… Shubhashish(2005)

In Printable Format

27 Responses to “मौसम”

  1. mehek मई 3, 2008 at 3:21 अपराह्न #

    in one word behtarin geet,ya kavita ya nazm jo bhi,bahut bahut khubsurat.

    • praveen नवम्बर 10, 2010 at 4:21 अपराह्न #

      अजीब सी खामोशी के साथ धीमी बरसात है
      शायद आज फिर से एक लम्बी रात है
      निहारती हैं एक टक आँखे बाहर के मौसम को,
      फिर से याद आ रही किसी मौसम की हर बात है

  2. समीर लाल मई 3, 2008 at 4:09 अपराह्न #

    बहुत बेहतरीन!! वाह!!

  3. shubhashishpandey मई 5, 2008 at 6:02 पूर्वाह्न #

    dhanyavad mehek ji aur sameer ji🙂

    • AMITA जनवरी 3, 2011 at 5:55 अपराह्न #

      U WRITE SO WELL!!

      • Shubhashish Pandey 'Aalsi' जनवरी 4, 2011 at 7:28 अपराह्न #

        @Amita ji
        aap ka tahe-dil se shukriya

  4. sharad मई 7, 2008 at 8:00 अपराह्न #

    wah wah shubhashishji kya likha hai aapne
    bus ek request hai aapse zara hindi ka kuch kijiye thik se nahi padne mei aate akshar, isliye thodi kasak rah jaati hai bolne mei ki-
    wah ustad kya likha hai aapne
    hum to aapke kayal ho jaate hai
    jo bhi likha ho aapne.

  5. Shubhashish Pandey मई 8, 2008 at 4:29 पूर्वाह्न #

    dhanyvad sharad ji ,
    mere khayal se aap IE7 ya IE8 browser proyog nahin kar rahe hain, Mozila me hindi font ki rendering bahut khrab hai is lye shabd spasht nahin dikhte🙂
    Baki aap ke sabhi tippadiyon(comments) ke liye bahut bahut dhanyvad

  6. Kumar Varun जून 7, 2008 at 4:49 अपराह्न #

    खैर!!
    अब बहुत दूर हो चुके हैं अपनी जिंदगी के रास्ते
    शायद दर्द भी ढल जाये यूँ ही आस्ते आस्ते
    जाने क्यूँ समझ नहीं पाया इस छोटी सी बात को
    अरे! मौसम तो होता ही है बदलने के वास्ते …

  7. Shrish अक्टूबर 15, 2008 at 3:13 अपराह्न #

    subhashish jee,
    bahut achhey sabdo ka samanjasv kiya hain aapney …….
    wakai main great
    Shrish Tripathi

  8. Shubhashish Pandey अक्टूबर 22, 2008 at 7:14 पूर्वाह्न #

    dhanyavad shrish ji

  9. surendra singh अप्रैल 9, 2010 at 2:23 अपराह्न #

    hi surendra singh
    dhanyvad subhshish ji

  10. Harshita अगस्त 29, 2010 at 6:18 पूर्वाह्न #

    Shubhashish ji vakai aapki har kavita bahut hi khubsurat hai………aaj se hum aapke fan ho gaye hain

    • Shubhashish Pandey अगस्त 29, 2010 at 7:07 अपराह्न #

      Harshita ji aapne itna samman diya iske liye bahut bahut dhanyavad

  11. vijay अगस्त 31, 2010 at 6:42 पूर्वाह्न #

    आदरणीय अपूर्ण जी,

    आपसे क्षमाप्रार्थी हूँ, आपकी लिखी कविता मैंने अपने ब्लॉग पर लगायी | लेकिन विश्वास करिए ये बिलकुल अनजाने में हुआ| मुझे ये एक मेल में प्राप्त हुआ और नादानी वश बिना लेखक का नाम खोजे मैंने इसे ब्लॉग पर पोस्ट कर दिया | लेकिन अब अपनी इस भूल को सुधारना चाहता हूँ, अगर आपकी इजाजत हो तो आपके नाम से पोस्ट दुबारा पोस्ट करना चाहता हूँ, जिसमे आपका संछिप्त परिचय आपके ब्लॉग-लिंक के साथ होगा |

    शीघ्रातिशीघ्र जवाब दे ताकि मैं उस हिसाब से निर्णय ले सकूँ |

  12. virender rawal सितम्बर 18, 2010 at 1:16 अपराह्न #

    priy shubhashish ji ,

    sirf isi post ke liye nahi balki aapki kuchh posts ko read karne ke baad sach me bina aapki praise kiye raha nahi gaya . excellent likhte hai . call girl wali poem bhi dil ko chhu gayi. god bless you

  13. Rakesh Kumawat अक्टूबर 19, 2010 at 10:33 पूर्वाह्न #

    Shubhashish ji aapki kavita mujhe bahut pasand aayi …

    future me bhi aap aise hi likhte rahiyega..
    best of luck…..
    god bless you..

    • Shubhashish Pandey 'Aalsi' दिसम्बर 7, 2010 at 12:49 अपराह्न #

      in shubhkamanao ke liye bahut bahut dhanyavad Rakesh ji

  14. M.s Haryanvi अक्टूबर 31, 2010 at 5:32 अपराह्न #

    thank’s

  15. chhaya sharma दिसम्बर 2, 2010 at 12:47 अपराह्न #

    yaad ko yaad banakar yadon me rakkhenge kabtak. dard ko dil me chhupakar rakkhenge kabtak.jara sunne ki koshish kijie kisi ne aawaj lagayi hai. sirf subah hi nahi hui “nanda” balki dhoop bhi nikal aayi hai…….. well nice shayri

  16. Pushkar Chaubey जनवरी 14, 2011 at 11:06 पूर्वाह्न #

    simply beautiful….

  17. Renuka जुलाई 15, 2011 at 7:43 पूर्वाह्न #

    shubhashish ji
    ap bahut hi acchha likhte hai mene pahli baar apki kavitaye padhi hai or me aapki kayil ho gai hu…kavitaye padhne ka shauk to bachpan se raha hai lekin aapki krutiya pahli baar padhi hai…bahu sari shubhkamnaye aapko…

    • Shubhashish Pandey 'Aalsi' जुलाई 16, 2011 at 2:33 अपराह्न #

      Renuka ji in rachano ko padhne tatha sarahne ke liye aabhar
      evam shubhkamanao ke liye bhi bahut bahut dhanyavad
      umeed hai ki aap aage bhi aati rahengi

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: