माँ

11 मई

जो भी जॉब के लिए घर से दूर हैं शायद उन सब के दिल में यही जज्बात होंगे | 
ये चार लाईने मैं अपनी माँ के लिए लिखा हूँ, वैसे माँ को याद करने को लिए कोई दिन नहीं होता है माँ तो हमेशा हमारे दिल में रहती हैं  हैं लेकिन आज Mother’s Day के बहाने जरुर इन भावनाओ को यहाँ व्यक्त कर रहा हूँ  

कभी-कभी खुद अपनी तरक्की से भी हो जाता नाराज हूँ मैं
इसी भाग दौड़ में खुद अपनों से दूर हो गया आज हूँ मैं
जिस आंचल के साये में रह के किसी लायक बन पाया
उस माँ से ही मिलने को चन्द छुट्टी का मोहताज हूँ मैं
……………………………….. Shubhashish

 

 

26 Responses to “माँ”

  1. dr parveen chopra मई 11, 2008 at 11:05 पूर्वाह्न #

    अरे भाई ऐसे ही उदास क्यों होते हैं…..कुछ दिन की छुट्टी लेकर हो आईये मां के पास।

  2. प्रभाकर पाण्डेय मई 11, 2008 at 1:27 अपराह्न #

    कभी-कभी खुद अपनी तरक्की से भी हो जाता नाराज हूँ मैं
    इसी भाग दौड़ में खुद अपनों से दूर हो गया आज हूँ मैं
    जिस आंचल के साये में रह के किसी लायक बन पाया
    उस माँ से ही मिलने को चन्द छुट्टी का मोहताज हूँ मैं

    बहुत ही बढ़िया। माँ को प्रणाम।

  3. राजीव रंजन प्रसाद मई 11, 2008 at 1:53 अपराह्न #

    वक्त का सच और हर मन के दु:ख की अभिव्यक्ति है यह रचना..

    ***राजीव रंजन प्रसाद

  4. mehhekk मई 11, 2008 at 5:09 अपराह्न #

    bahut hi siddhi sachhi baat,apni khud ki maa se milne ke liye bhi ek chuti ka mohtaj hona padta hai,,gehre marmik bhav,bahut hi sundar,dil ko chu gayi lines.

  5. समीर लाल मई 11, 2008 at 11:24 अपराह्न #

    भावुक अभिव्यक्ति.

  6. Shubhashish Pandey मई 12, 2008 at 4:48 पूर्वाह्न #

    dhnyvad doctor sahab aap ke is sujahv ke liye🙂.

    prabhakar ji rajeev ji mehek ji aur smeer ji aap sabhi logo ka tah-e-dil se shukriya.

  7. vijayshankar chaturvedi मई 12, 2008 at 5:43 पूर्वाह्न #

    bahut achchhe!

  8. Shubhashish Pandey मई 14, 2008 at 6:06 पूर्वाह्न #

    shukriya chaturvedi ji.

  9. mrs pandya मई 16, 2008 at 4:26 अपराह्न #

    very touchy….very nice…keep it up…

  10. Ashok मई 17, 2008 at 2:40 पूर्वाह्न #

    Shubhashish,

    Bahut achhee baat kahee he aap ne kyonki main apni maa se itni door hoon aur hamesha yehi mehshoosh hota hai.

    Aap ke khayalat dil ko chhoo gaye.

    Keep it up!!

    Aap ko kabhee mauka mile to meri blog zaroor dekhe

    http://1ashoksharma.wordpress.com/

    Ashok

  11. Shubhashish Pandey मई 17, 2008 at 12:46 अपराह्न #

    Pandya ji aur Ashok ji aap logo ka is blog pe aane ke bahut bahut dhanyavad

  12. Raj Gaurav मई 18, 2008 at 11:57 पूर्वाह्न #

    लिखते रहिये..

    शुभकामनायें..

  13. jeetu जून 5, 2008 at 5:15 पूर्वाह्न #

    Sahi kaha dost…

    kooch aisi hoti hai maa…

    mere gunahoo ko kooch aise dho deti hai
    maa,gusse me hoti hai to ro deti hai…

    keep posting.

    jr

  14. Shubhashish Pandey जून 5, 2008 at 8:35 पूर्वाह्न #

    Raj ji is tippadi ke liye abhar

    Jeetu ji ye panktiyan dil ko chhoo lene wali hain, in panktiyo ke liye dhnyavad

  15. Prince Sharma जून 24, 2008 at 3:19 पूर्वाह्न #

    Bahut achche, betaa,
    Punjabi me ek kahaavat hai : Maavaa thandiyaa chhaavaa..

    Means : Maa to thandi chhayo hai re..
    Maa ke dood kaa karja koi nahi chukaa sakaa…

  16. razia786 सितम्बर 3, 2008 at 10:05 पूर्वाह्न #

    कभी-कभी खुद अपनी तरक्की से भी हो जाता नाराज हूँ मैं
    इसी भाग दौड़ में खुद अपनों से दूर हो गया आज हूँ मैं
    जिस आंचल के साये में रह के किसी लायक बन पाया
    उस माँ से ही मिलने को चन्द छुट्टी का मोहताज हूँ मैं
    बढिया रचना। तुमने तो रुला ही दिया।शुभाशिश!
    हमारी दुआ है तुम हमेंशा कामयाब रहो।
    मेरे ब्लोग पर “माँ” के लिये तुम्हारी कमेन्ट ही बहोत कुछ कह गई।
    इतनी छोटी उम्र मॆं इतने भावुक।
    नसीबदार है तुम्हारी “माँ”

  17. Shubhashish Pandey सितम्बर 5, 2008 at 5:18 पूर्वाह्न #

    bahut bahut shukriya raziya ji aapka

  18. Shrish सितम्बर 10, 2008 at 11:11 पूर्वाह्न #

    bahut hi marmsparsee panktiya …bahut achhey

  19. gourav फ़रवरी 13, 2009 at 11:14 पूर्वाह्न #

    again great sirji

    yaa it realy make to cry u when u r living very far from ur beloved i like it siorji very much thx for it realy nice.

  20. Shubhashish Pandey फ़रवरी 16, 2009 at 6:51 पूर्वाह्न #

    dhanyavad Shrish ji aur gaurav ji

  21. dileep मई 9, 2010 at 3:02 अपराह्न #

    sirji bahut khoob…yahi ham sabka haal hai…aaj to aankein subah se nam hai..

  22. Gibind जून 26, 2010 at 12:44 अपराह्न #

    Mind blowing

  23. Shubhashish Pandey जुलाई 24, 2010 at 7:45 पूर्वाह्न #

    dhanyavad dileep ji aur Gibind ji

  24. himanshu अक्टूबर 16, 2010 at 7:01 पूर्वाह्न #

    Subhshsish bhai atyant bhav vibhor rachna ke liye dhero badhaiyaaaaaaaa…………..main aapka bahut bada fan ho gaya hu sirjee keep it up

    • Shubhashish Pandey 'Aalsi' अक्टूबर 17, 2010 at 9:03 अपराह्न #

      Himanshu ji bahut bahut shukriya
      aapki in panktiyon se abhibhut hoon

  25. Pushkar Chaubey जनवरी 13, 2011 at 12:25 अपराह्न #

    sach kaha dost!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: