मैं इमरान हाशमी बनना चाहता हूँ

12 मई

(अपने बी.टेक. फाइनल इयर में जब मैंने ये कविता लिखी थी उस वक़्त unicode जैसी सहूलियत नहीं थी इसलिए मेरे दोस्त कुमार वरुण, जो की इस कविता के प्रेरणा भी थे (क्युकी वो कभी कभी बोलता की यार मैं इमरान हाश्मी बनना चाहता हूँ😛 ) ने इसे हिंदी पैड पे लिख के jpeg फॉर्मेट में मेल में attach किया! आज मैं इसे unicode में यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ )

 मैं इमरान हाशमी बनना चाहता हूँ 

पांचवी कक्षा की एक क्लास मे मास्टर ने बच्चों से पूछा
बताओ क्या बनोगे, कैसे करोंगे अपने माँ-बाप का नाम ऊँचा
किसी ने IAS. किसी ने PCS. किसी ने कहा अच्छा आदमी बनाना चाहता हूँ
तभी पीछे की सीट से उठकर एक बच्चे ने कहा
Sir! मैं इमरान हाशमी बनना चाहता हूँ

ऐसे जवाब की ख्वाब मे भी नही की थी कभी कल्पना
पर Teacher को लगा शायद हो ये लडके का बचपना
समझाया की बेटा गलती की है तुने Career को चुनने मे
ये तो बता क्या प्रॉब्लम है तुझे और कुछ बनने मे ???

लड़का बोला Sir! जॉब मे अभी कहाँ इतना पैसा है
और Business करना मुझे लगता बेवकूफों जैसा है
नेता फस जाते हैं Akshar स्टिंग ऑपरेशन के जंजाल मे
खेल मे Zahar भर दिया मैच फिक्सिंग के बवाल ने
पर फ़िल्म इंडस्ट्री मे प्रोफिट की लाइन हमेशा ऊपर चढ़ती है
बढ़िया काम से Price-Value तो बुरे से Popularity बढ़ती है
और इस बात को तो ख़ुद कई बड़े फ़िल्म समीक्षक माने है
MMS Clips से भी ज्यादा बिकते इमरान के फिल्मो के गाने है

मै भी ऐसे गाने कर अपनी लाइफ बदलना चाहता हूँ
इसीलिए तो Sir! मैं इमरान हाशमी बनाना चाहता हूँ

हुंह!!!! आज कल के लडके जाने पढ़ते हैं किस किताब से
Teacher का भी सर चक्र गया बच्चे के इस जवाब से
Teacher ने फ़िर भी पूछा उसमे ऐसी क्या बात समाई है
ये तो बता अभिषेक बच्चन बनने मे क्या बुराई है ???

सिर्फ़ दो फिल्मो से इतना नाम नही कमाया अभिषेक के बाप ने
Murder किया लड़किया फ़िर भी कहती .Aashiq Banaya Aap Ne…
मल्लिका,तनुश्री, उदिता निपटी पिछली फिल्मों की साइन मे
सुनाने मे आया है की अब सेलिना हृषिता भी है लाइन मे

मै भी ऐसे टेस्टी CHOCOLATE का स्वाद चखाना चाहता हूँ
इसीलिए तो Sir मैं इमरान हाशमी बनाना चाहता हूँ

अब मास्टर का गुस्सा पहुच गया सातवे आसमान पे
बोले.. सिवाय लड़किया घुमाने के क्या किया इमरान ने ??
Sir! लड़कियों को पीछे घुमाना कोई आसान काम नही
वरना बड़े Powerful लोगो का होता ये अंजाम नहीं

क्या नही जानते आप America के पूर्व राष्ट्रपति को ??
कैसे प्राप्त हुए मोनिका के चक्कर मे .वीरगति को
बदल गया कप्तान देश का सौरभ-नग्मा के टक्कर मे
Cricket खेलना भूल गया वो .नए खेल के चक्कर मे
मेरी इतनी बातों का मतलब बिलकुल सीधा-साफ है
काबिलियेत मे भी इमरान हाशमी. बिल क्लिंटन का बाप है

मैं भी एक Demanded और काबिल आदमी बनाना चाहता हूँ
इसीलिए तो Sir! मैं इमरान हाशमी बनाना चाहता हूँ

…………………………… Shubhashish ( 2006)

In printable format

30 Responses to “मैं इमरान हाशमी बनना चाहता हूँ”

  1. lovely kumari मई 12, 2008 at 6:44 पूर्वाह्न #

    ha ha ha very funny…

  2. समीर लाल मई 12, 2008 at 3:00 अपराह्न #

    🙂 🙂

  3. Pramendra Pratap Singh मई 12, 2008 at 11:53 अपराह्न #

    🙂

    इमरान बनना कठिन नही है बस एक मल्लिका शेरावत हो

  4. हर्षवर्धन मई 13, 2008 at 2:48 पूर्वाह्न #

    भगवान आपकी हर इच्छा पूरी करे

  5. anurag arya मई 13, 2008 at 5:03 पूर्वाह्न #

    may god ful fil your wish……

  6. Shubhashish Pandey मई 14, 2008 at 6:05 पूर्वाह्न #

    is kavita ko padhne ke liye aap sabhi logo ka dhanyvad. mere liye duaa me kaafi haath uthe hain chaliye kuchh to ban he jaoonga🙂

  7. Rajesh Roshan मई 19, 2008 at 5:18 पूर्वाह्न #

    Dont use this .gif file dear. yah dekhne mein achha lagata hai lekin sach bhayawah hai. Hope u getting me.

  8. Shubhashish Pandey मई 19, 2008 at 5:38 पूर्वाह्न #

    aap ki pratikriya ke liye dhnayvad Rajesh ji aap ne bilkul sahi kaha ye image dekhte me achhi hai par iska sach bahut bhayavah hai,
    dar asal is kavita ko padhne wale akasar ise padh ke ek hasya kavita he samjhte hain par isme chhupa sandesh bhi isi chitra ki tarah hai,

    ye aaj kal ki yuva pidhi ki soch ko dikhane ki ek bahut chhoti si koshish hai.
    iska parinaam kya hoga ye sabko samjhna hai ….

    shayad ab aap samjh rahe honge ki ye tasveer yahan kyun hai🙂

  9. Prashant Priyadarshi मई 21, 2008 at 11:08 पूर्वाह्न #

    sahi hai guru..🙂

  10. hemjyotsana "Deep" मई 23, 2008 at 6:34 पूर्वाह्न #

    namaskaar Shubhashish jee,
    aap jaante hi honge ke ham aapki 2 kavita padh kar aapki lekhani ke fan bane the,
    unmein se ek ye hai.

    ye rachnaa aapki bahut bahut achi hai

    likhte rahe….

    saadar
    hem jyotsana

  11. Shubhashish Pandey मई 25, 2008 at 1:14 अपराह्न #

    namaskaar hemjyotsna ji

    is blog pe aap ka swagat hai
    aapke in preranadayak shbdon ke liye bahut bahut dhnyavad🙂

  12. harry जून 13, 2008 at 8:03 पूर्वाह्न #

    i m big fan oj enmran hasmii, msin tho emran hsmi kb ka ban chuka hu

  13. ramesharya सितम्बर 9, 2008 at 10:23 पूर्वाह्न #

    aap jrur bn skte ho basrte aapka mama Mahesh Bhatt hona chahiye…..kahani ki maang ke anusar aap bhi pichhla record tod doge….

  14. Shrish सितम्बर 10, 2008 at 11:17 पूर्वाह्न #

    sahi kaha yaar ……………..perfect merey bhai……good

  15. c. kumar सितम्बर 23, 2008 at 8:52 पूर्वाह्न #

    wah kya..bat hai……

  16. Shubhashish Pandey अक्टूबर 2, 2008 at 6:08 पूर्वाह्न #

    dhanyavad kumar sahab

  17. sachin kushwaha जनवरी 25, 2009 at 3:14 अपराह्न #

    bahut bindaas lagi tumhari poem

  18. gaurav singh जनवरी 31, 2009 at 6:45 अपराह्न #

    sir aaj bhi wahi sab kya baat hai..?

  19. Shubhashish Pandey फ़रवरी 4, 2009 at 9:15 पूर्वाह्न #

    dhanyavad Sachin ji
    shukriya Gaurav ji

  20. gourav फ़रवरी 13, 2009 at 11:05 पूर्वाह्न #

    very nice realy hidding the tyruth.

    sir very nice maanna padega isme apne mere junier ki yaad dila di he also write like tht r u from ips academy indore actualy may be ur tht one

  21. M. haryanvi फ़रवरी 16, 2009 at 6:53 पूर्वाह्न #

    kai baap teri to nikal padi
    aese hi lage raho pandey ……….God bales you mere bahi.
    sadhe dil ne bas yahi kaha.

  22. Shubhashish Pandey फ़रवरी 16, 2009 at 6:59 पूर्वाह्न #

    dhanyavad gaurav ji , nahin main IPS se nahin hoon🙂
    Manjeet ji aap ka bahut bahut dhanyavad

  23. Udayesh Ravi मार्च 5, 2009 at 10:33 पूर्वाह्न #

    Bahut badhiya likha hai Bhay.
    Apun ka kaleja rapchik ehistyle mein houle-haule ghoora marne laga.
    Waise mere dimag mein bhi jo kemikal locha chal raha wo ye ki iss jhakkas kavita ko kahi padhela hai. …..Yaad aaya net per kisi ne mail kiya tha kabhi.

    Badhiya likhte hain. Aur achchha likhiye.
    Kuchh Naya likhiye toh informiyega.
    Rest & below the line

    ………

    ………

    Lago Raho Shubhashish Bhai.

  24. Shubhashish Pandey मार्च 17, 2009 at 4:52 पूर्वाह्न #

    dhanyavad Udayesh ji
    sahi kaha ye kavita mail ke through .jpeg formate me jyada circulate hui hai

  25. nakul दिसम्बर 4, 2009 at 6:13 अपराह्न #

    appki kavita ne meri kai problem ka nivaaran kar diya.
    thanks

  26. shubham jain अगस्त 31, 2010 at 6:36 पूर्वाह्न #

    ha ha…5vi class ke bachche ne bahut dur ki soch li…😀

  27. Nitish Pandey अप्रैल 25, 2013 at 6:13 पूर्वाह्न #

    Bahut hi achha likha hai ji apne…
    Ab to apki baatein sunkar aisa lagta hai…
    Mai bhi Emraan Haashmi banna chahta hoon🙂

  28. Alok Ranjan Mishra जून 26, 2013 at 12:32 अपराह्न #

    wah Shubhashish Pandey ji
    maja aa gaya aapki lino ko padh kar. aise maine majak me logo ko kahte suna tha wo imran banana chahte hai par un shabdo ko aapne jo pankityo me piroya hai wo kabile tareef hai.
    thanx to u

  29. Shubhashish Pandey 'Aalsi' सितम्बर 4, 2013 at 2:35 अपराह्न #

    shubham ji, nitish ji evam aalok ji apne vichar vyakta karne aur kavita ko pasanad karne ke liye dhanayavad

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: