खुदा भी पिघलता है

29 मई

जब गम तेरा देख के दिल मुझसे नही सम्भलता है
तो तेरी खुशियों की खातिर ये यूं ही दिन रात जलता है
ऐसे तो सुनता ही नही खुदा दुआ हमारी अक्सर
पर शायद कभी-कभी हमारे आँसुवों से वो भी पिघलता है
…………………………………… Shubhashish(2007)

14 Responses to “खुदा भी पिघलता है”

  1. राजीव रंजन प्रसाद मई 29, 2008 at 10:31 पूर्वाह्न #

    ऐसे तो सुनता ही नही खुदा दुआ हमारी अक्सर
    पर शायद कभी-कभी हमारे आँसुवों से वो भी पिघलता है

    वाह!!!

    ***राजीव रंजन प्रसाद

  2. Amjad मई 29, 2008 at 10:40 पूर्वाह्न #

    Realy nice shayari. Good going

  3. limit मई 29, 2008 at 10:54 पूर्वाह्न #

    ” baat jb dil se niklee to jmaney mey mshuur ho gye,
    dua jb aansuon mey piglee to vo bhee kbul ho gyee…..”

    wah wah wah good combination of thoughts with words”
    keep it up

  4. shobha मई 29, 2008 at 11:03 पूर्वाह्न #

    जब गम तेरा देख के दिल मुझसे नही सम्भलता है
    तो तेरी खुशियों की खातिर ये यूं ही दिन रात जलता है
    अच्छा लिखा है।

  5. balkishan मई 29, 2008 at 11:39 पूर्वाह्न #

    बहुत सुंदर.
    आपने बहुत उम्दा और भावपूर्ण लाइनें लिखी

  6. ranjanabhatia मई 29, 2008 at 11:56 पूर्वाह्न #

    ऐसे तो सुनता ही नही खुदा दुआ हमारी अक्सर
    पर शायद कभी-कभी हमारे आँसुवों से वो भी पिघलता है

    बहुत सुंदर

  7. समीर लाल मई 29, 2008 at 3:03 अपराह्न #

    बढ़िया.

  8. ramadwivedi मई 29, 2008 at 5:22 अपराह्न #

    डा. रमा द्विवेदी

    बहुत खूब…वाह वाह… मज़ा आ गया🙂

  9. Shubhashish Pandey मई 30, 2008 at 8:48 पूर्वाह्न #

    Rajiv ji, Amjad ji , Seema ji, Shobha ji, Ranjana ji,Bal-kishan ji,Sameer ji aur Dr. Rama Dwivedi ji aap sabhi logo ka is hausla-afzayi ke liye tah-e dil se shukriya🙂

  10. ashok नवम्बर 1, 2008 at 1:09 अपराह्न #

    well don
    keep it aLWAYS

  11. Shubhashish Pandey नवम्बर 5, 2008 at 6:36 पूर्वाह्न #

    bahut bahut shukriya ashok ji

  12. gourav फ़रवरी 13, 2009 at 11:19 पूर्वाह्न #

    again excelent kya mai ye copy kar sakta hoo sirji.

    realy great.

    very nice.

    thx

  13. M.haryanvi फ़रवरी 18, 2009 at 6:15 पूर्वाह्न #

    kai baat hai bahi
    tum kamlho yar

  14. Shubhashish Pandey मार्च 2, 2009 at 7:27 पूर्वाह्न #

    dhanayavad Haryanvi ji

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: