चार पंक्तियाँ दोस्तों के लिए

4 अगस्त

चाह के भी जिससे कोई राज छुपाया नहीं जाता है
कभी हँसाता कभी रुलाता पर हर पल साथ निभाता है
खून का तो नहीं पर कभी – कभी हो जाता है उससे भी गहरा
ये प्यारा रिश्ता ही तो दोस्ती कहलाता है
………………………. Shubhashish

14 Responses to “चार पंक्तियाँ दोस्तों के लिए”

  1. ghughutibasuti अगस्त 4, 2008 at 7:23 अपराह्न #

    सही कहा है।
    घुघूती बासूती

  2. समीर लाल ’उड़न तश्तरी वाले’ अगस्त 4, 2008 at 7:43 अपराह्न #

    बहुत खूब!! सही है.

  3. Shubhashish Pandey अगस्त 6, 2008 at 7:11 पूर्वाह्न #

    Ghughuti Basuti ji aur sameer ji is hausala-afzayi ke liye shukriya

  4. amrish अगस्त 27, 2008 at 5:57 अपराह्न #

    MAI to aapka kaail ho gaya. jazbato ko kagaj sorry screen pe ukerne ki kala har kisi ko hasil nahi hoti .. you got GOD GIFT. CONGRATULATIONS !

  5. ramadwivedi अगस्त 28, 2008 at 4:20 पूर्वाह्न #

    डा. रमा द्विवेदी…….

    बहुत खूब लिखा है आपने…शुभकामनायें….

  6. Shubhashish Pandey अगस्त 28, 2008 at 2:58 अपराह्न #

    aap ko ye panktiyan achhi lagi bahut bahut shukriya amrish ji.
    Dr. Rama Dwivedi ji aap ka abhar.

  7. razia786 सितम्बर 3, 2008 at 9:56 पूर्वाह्न #

    इस में ना स्वार्थ है ना ही कोइ मतलब है।
    ये तो निस्वार्थ है रिश्तों से कइं उपर है।
    इस में ना भेद है धर्मों का या मज़हब का कहीं।
    इसीलिये तो ये दोस्ती कहलाता है।

    हमारे छोटे से शुभाशिश को बडी-बडी शुभकामनाऎ

  8. Shubhashish Pandey सितम्बर 5, 2008 at 5:19 पूर्वाह्न #

    in panktiyon ke liye dhanyavad raziya ji

  9. M.haryanvi फ़रवरी 18, 2009 at 6:03 पूर्वाह्न #

    kamal hai yar

  10. Shubhashish Pandey मार्च 2, 2009 at 7:26 पूर्वाह्न #

    dhanyavad Haryanvi ji

  11. harshita अगस्त 30, 2010 at 3:26 अपराह्न #

    bahut hi pyarri kavita hai………..hum toh yeh sab nahi likh sakte..haan aapki taariff jarur kar sakte hain..aap har shabd ko itne khubsurati se pesh karte hain ki padne vala aapki tarif kiye bina nahi reh sakta..meine apne frnds ko bhi kaha hai aapki kavitaon ko padne ko……shubhashish ji aap GOD GIFTED hain..

    • Shubhashish Pandey अगस्त 31, 2010 at 3:14 अपराह्न #

      हर्षिता जी
      इस रचना को पढने तथा इस मुक्त कंठ प्रसंशा के लिए तह-ए-दिल से शुक्रिया

  12. rajpal singh gusain सितम्बर 26, 2013 at 9:16 पूर्वाह्न #

    lagta hai duniya me ek pyara dost mil gaya hai hame,

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: