कैसा रिश्ता है .. ना बनता है ना बिखरता है

27 अगस्त

1)
अक्सर कुछ उदास हो एक मोड़ पे आ ठहरता है,
जाने कौन सा रिश्ता है ये .. ना बनता है ना बिखरता है !

2)
मैं तुम्हे समझा नहीं या तुम मुझे समझे नहीं,
बात इतनी ही है शायद, की हम कभी बदले नहीं !

………………. Shubhashish

14 Responses to “कैसा रिश्ता है .. ना बनता है ना बिखरता है”

  1. sameerlal अगस्त 27, 2008 at 2:51 अपराह्न #

    बहुत बढिया.

  2. विनय प्रजापति अगस्त 27, 2008 at 8:01 अपराह्न #

    tareef ke qabil likha hai…

  3. seema gupta अगस्त 28, 2008 at 5:12 पूर्वाह्न #

    अक्सर कुछ उदास हो एक मोड़ पे आ ठहरता है,
    जाने कौन सा रिश्ता है ये .. ना बनता है ना बिखरता है !
    Hi, again appreciable, liked reading it ya”

    Regards

  4. Shubhashish Pandey अगस्त 28, 2008 at 3:01 अपराह्न #

    sameer ji, vinay ji aur seema ji aap logo ka bahut bahut shukriya.

  5. ramesharya सितम्बर 9, 2008 at 10:06 पूर्वाह्न #

    kitna drd bhra in chnd panktiyon me….wah !mujhe bhi apna kuch beeta wkt yad aa gya…very very nice

  6. KRISHAN KUMAR जुलाई 8, 2009 at 11:40 पूर्वाह्न #

    DOSt pata nahi ye itfak hai ya kuchh aur ye sab MERE SATH 100% fit bath raha hai

  7. sanjeev अगस्त 1, 2009 at 5:47 अपराह्न #

    इन पंक्तियों में बहुत दम हे दिल से बहुत करीब प्रतीत होती हेँ

  8. Krishan Kumar अगस्त 4, 2009 at 10:41 पूर्वाह्न #

    Dost Kuchh Log Risto Ke Liye Jeete Hai Aur Kuchh Log Matlab Ke Riste Rakhte Rakhte Hai

    • Shubhashish Pandey अगस्त 4, 2009 at 11:04 पूर्वाह्न #

      Sahi kaha Krishan ji, sahamat hoon aap se. par dono tarah k log khud badal nahi pate,
      Vicharo ko yahan abhiyakt karne k liye dhanyavad

  9. kunal अगस्त 10, 2009 at 9:53 पूर्वाह्न #

    kya khoon, shabd labon par aa aa kar bikhar jate hain, bas itna hi, dil ke andar kahi chhoo gayi hain ye panktiyan

  10. Shubhashish Pandey सितम्बर 16, 2009 at 10:30 अपराह्न #

    dhanyavad Kunal ji

  11. पुकार शर्मा जुलाई 10, 2015 at 7:43 पूर्वाह्न #

    सर अपकी शब्दों की सुनदरता को व्याख्यान करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं..।

    • Shubhashish Pandey 'Aalsi' दिसम्बर 19, 2015 at 8:08 पूर्वाह्न #

      aapko rachna pasand aayi iske liye tah-e-dil se shukriya!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: