Archive | मई, 2010

बरसात

29 मई

घर से निकला ही था की बरसात हो गयी
आज मौसम से अचानक यू मुलाकात हो गयी

जाने कब दिखी वो और हम यूँ ही कब तक खड़े रहे
पता भी नहीं चला की यहाँ कब रात हो गयी

यूँ तो तेरे होठों से लगी वो बस बारिश की एक बूँद थी
फिर जाने क्यों मेरी आँखों के लिए वो कायनात हो गयी

मौत भी लौट जाये गर मेरे होठों पे हो वो बूँद
जो तेरे होंठों को छू के आब-ए-हयात हो गयी
………………………………………. Shubhashish

Advertisements