खुशनसीब …… या बदनसीब….

8 दिसम्बर

वो अक्सर मेरे पास मुस्कुराते हुए आता
और बड़े गुमान से बताता
यार !
मुझे तो कभी हुआ ही नहीं
‘ये प्यार’ ….
एक दिन मुझसे भी जवाब निकल ही गया
जाने तुझे क्या कहना चाहिए

खुशनसीब ……
की तुझे कभी
गुजरना नहीं पड़ा
दर्द के उस सैलाब से
जो कई बार दे जाता है उम्र भर की उदासी

या

बदनसीब….
की तुझे कभी
एहसास ही नहीं हुआ
दुनिया की उस सबसे खुबसूरत चीज़ का
जिसके लिए लोग
जानते हुए भी
हर दर्द को उठाने के लिए तैयार हो जाते हैं ………
सिर्फ उस एहसास के लिए …
वही एहसास …
जो इन्सान को…. इन्सान बनाता है
……………. Shubhashish

12 Responses to “खुशनसीब …… या बदनसीब….”

  1. प्रवीण पाण्डेय दिसम्बर 8, 2010 at 1:46 अपराह्न #

    प्यार इन्सान को इन्सान बनाता है, शादी क्या बनाती है।

    • Shubhashish Pandey 'Aalsi' दिसम्बर 8, 2010 at 7:06 अपराह्न #

      praveen ji kshama chahoonga par jis andaz me aapne pochha hai usme iska jawab sirf ek he shabd soojh raha hai “bewkoof”🙂
      aur jyada details ke liye aap meri poorani rachna bhi padh sakte hain “bala ka naam hai biwi”😛

  2. alok katdare जनवरी 28, 2011 at 3:20 अपराह्न #

    एकदम दिल को छू जाने वाली लाइनें हैं; शुभाशिषजी ऐसे ही लिखते रहिए!!
    you probably do not know me. i am a friend of Sanjay Vyas and read these lines on his wall on facebook, so thought to greet you for such wonderful lines which carry a very deep meaning.

    • Shubhashish Pandey 'Aalsi' मार्च 7, 2011 at 11:44 अपराह्न #

      alok ji yahan tak aane ke liye tatha apne vichar dene ke liye bahut bahut shukriya

  3. Hindi Sahitya मार्च 24, 2011 at 12:21 अपराह्न #

    Bahut khub-
    दुनिया की उस सबसे खुबसूरत चीज़ का
    जिसके लिए लोग
    जानते हुए भी
    हर दर्द को उठाने के लिए तैयार हो जाते हैं ………
    सिर्फ उस एहसास के लिए …
    वही एहसास …
    जो इन्सान को…. इन्सान बनाता है

  4. raj86kumar@gmail.com मार्च 24, 2011 at 2:09 अपराह्न #

    What is ‘प्यार’ according to this poem…?
    if I have not misunderstood than are these lines trying to limit this feeling to the individuals……!!!
    need clarification….

  5. Shubhashish Pandey 'Aalsi' मार्च 25, 2011 at 7:23 पूर्वाह्न #

    @Hindi sahitya ji dhanyavad
    @Raj
    मेरे ख्याल से तो प्यार व्यक्तिगत चीज़ ही है क्युकी सार्वभौमिक होते हुए भी हर किसी के लिए इसकी अवधारणा और इसके मायने अलग अलग हैं! मैं तो बस एक विचार को यहाँ लिख रहा था यानि अपना एक दृष्टिकोण रख रहा था ….. प्रेम की व्याख्या तो मैं कर भी नहीं सकता क्युकी ये काम तो आज तक कोई नहीं कर पाया है ….प्यार की कोई परिभाषा होती ही नहीं …. हर लिखने वाला बस अपना नजरिया बयां करता है मैं भी वही कर रहा था
    पर हाँ ये एक नजरिया है एक और नजरिया आप मेरी एक दूसरी रचना में देख सकते हैं : इश्क भी क्या चीज़ है https://apurn.wordpress.com/2008/06/11/ishq-bhi-kya-cheez-hai/
    आप को अभी भी किसी प्रकार के स्पष्टीकरण की आवश्यकता हो तो बताएं
    यहाँ तक आने के लिए एवं अपने विचारों को रखने के लिए सहृदय आभार

    • raj86kumar@gmail.com मार्च 25, 2011 at 2:44 अपराह्न #

      Regarding to love a very short paragraph written by Bhagat Singh is present on the net, great highest values and representation for the love can be seen in these lines.
      In the words of Martyr Bhagat Singh,
      “I may clear one thing here; when I said that love has human weakness, I did not say it for an ordinary human being at this stage, where the people generally are. But that is most idealistic stage when man would overcome all these sentiments, the love, the hatred, and so on. When man will take reason as the sole basis of his activity. But at present it is not bad, rather good and useful to man. And moreover while rebuking the love. I rebuked the love of one individual for one, and that too in idealistic stage. And even then, man must have the strongest feelings of love which he may not confine to one individual and may make it universal”

  6. Rakesh Rohit मार्च 26, 2011 at 4:32 अपराह्न #

    प्यार के बारे में अच्छी अभिव्यक्ति. प्यार चीज ही ऐसी है कि जिसे समझना कठिन है महसूसना आसान.

  7. Shubhashish Pandey 'Aalsi' मई 2, 2011 at 5:25 अपराह्न #

    @raj kumar ji
    jaisa ki maine pahle he kaha prem ek darshan ka vishay hai atah kahin se bhi iski ek nishchit paribhasha nahi ho sakti aur vo koi nahi kar sakta…
    Bhagat singh ji ke vichar nischit rup se bahut shashakt hai par vo bhi prem ko paribhashit nahi kar rahe balki uske bare me bata rahe hain. prem ko paribhasha me badha nahi ja sakta … yahi to iski khoobsurti hai🙂 …

    @Rakesh ji
    dhanyavad

  8. dhruv दिसम्बर 20, 2011 at 2:34 अपराह्न #

    nice one !!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: