ये रोग जिसे लग जाये

16 सितम्बर

ना नींद रहे ना चैन रहे , कुछ समझ ना मन को आये !

जब एक झलक की आस लिए दिल नाम वही दोहराये !

 कभी हँसता है कभी रोता है क्या हुआ है इस पागल को !

 इस इश्क का हाल तो जाने वही,  ये रोग जिसे लग जाये !

 

 तड़पता है मचलता है बस तेरी याद करता है !

तुझसे मिलने की कोशिश दिल मेरा दिन-रात करता है!

———————– Shubhashish

18 Responses to “ये रोग जिसे लग जाये”

  1. mithilesh सितम्बर 16, 2009 at 4:07 अपराह्न #

    वाह बहुत खुब। लाजवाब रचना। बधाई

  2. anshul सितम्बर 16, 2009 at 5:23 अपराह्न #

    bahut mast… waah waah !!!

  3. Shubhashish Pandey सितम्बर 16, 2009 at 10:36 अपराह्न #

    Dhanyavad mithilesh ji
    Dhanyavad anshul sir🙂

  4. समीर लाल सितम्बर 17, 2009 at 2:55 पूर्वाह्न #

    बहुत सही.

  5. Prerana सितम्बर 17, 2009 at 4:41 पूर्वाह्न #

    hmmm.. good one

    kisi yaad mai likhi hai aapne yeh kavita?

    • Shubhashish Pandey सितम्बर 17, 2009 at 9:16 पूर्वाह्न #

      Dhanyavad Sameer ji

      Thanks Prerana

      dar-asal ye gana maine 3 saal pahle likha tha jab main berojgar tha aur naukari ki talash me bhatak raha tha😛 aur ek akhbar me album k liye ek adv. nikla tha maine us time 2 din me 3 gaane likhe fir somehow mood change ho gaya aur main gana likhne k baad us producer se milne he nahi gaya ye sher usi ek gaane se hain🙂

      Gaane aaj bhi isi intjaar me rakha hoon ki kabhi to apni album …..🙂

  6. bina kiroula सितम्बर 22, 2009 at 6:03 पूर्वाह्न #

    wah sach kha h aisa hi to ishq ka khumar hota h

  7. Chandra Mohan Gupta सितम्बर 30, 2009 at 4:12 अपराह्न #

    ये रोग जिसे लग जाये

    बच के कौन रह पाया इससे………………..

    सुन्दर कविता.

    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    http://www.cmgupta.blogspot.com

  8. sandeep अक्टूबर 9, 2009 at 5:51 पूर्वाह्न #

    वाह सुभाष जी क्या बात है एक एक रचना लाजवाब है,लगता है बहुत गहरी चोट खायी है आपने तभी इस कदर जज्बात उमड़ रहे हैं बहुत सुन्दर अति उत्तम शब्द नहीं है मेरे पास

  9. Kumar अक्टूबर 11, 2009 at 9:20 अपराह्न #

    Pandey ji,,

    gaane lines ke bich mein

    Maula Ya Maula

    insert kar do

    humne tune compose kar di hai…

    Achha bass ye batao

    iss gaane ko frundu.com ne kaise sponsor kiya??

  10. Swapna Manjusha 'ada' नवम्बर 10, 2009 at 3:36 अपराह्न #

    बहुत अच्छी लगी आपकी रचना…
    अच्छी बात ये हैं की ये एक ईमानदार कोशिश लगी मुझे….
    लिखते रहिये…..

  11. Creative Manch नवम्बर 25, 2009 at 10:24 पूर्वाह्न #

    कभी हँसता है कभी रोता है क्या हुआ है इस पागल को !

    इस इश्क का हाल तो जाने वही, ये रोग जिसे लग जाये !

    वाह .. वाह क्या बात है
    लाजवाब रचना

    बधाई एवं शुभ कामनाएं

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    प्रत्येक बुधवार रात्रि 7.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    क्रियेटिव मंच

  12. ankur दिसम्बर 17, 2009 at 12:14 अपराह्न #

    bahut khub hero…mazaa a gaya.

  13. anuragi जनवरी 20, 2010 at 8:55 पूर्वाह्न #

    bahut achchhe yar…

  14. dileep अप्रैल 18, 2010 at 3:13 अपराह्न #

    are sir bahut din baad waah…bahut khoob…aur rachnaon ka intzar rahega…

  15. Shubhashish Pandey जुलाई 24, 2010 at 7:11 पूर्वाह्न #

    Kumar varun ji, swapan manjusha ji, Creative manch ji, ankur ji, anuragi ji aur dileep ji aap sabhi logo ka bahut bahut shukriya

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: