Archive | अप्रैल, 2010

मर्यादा और प्रेम

22 अप्रैल

मर्यादा और प्रेम सिखाती घडी की दो सुइयां
प्रेम में एक दुसरे से मिलने को चलती रहतीं हैं,
पास आती हैं, एक पल के लिए एक हो जाती हैं,
पर मर्यादा निभाने को फिर से चल पड़ती हैं,
इस वादे के साथ की फिर मिलेंगे ……
….. मर्यादा और प्रेम सिखाती घडी की दो सुइयां
Shubhashish

Advertisements