रुक्सत

29 अप्रैल

(ये कविता मैंने २००५ में अपने seniours के लिए उनके farewell पे लिखी थी, जिसे आज यहाँ publish कर रहा हूँ )

Ruqsat ’05
रुक्सत…

By: Shubhashish Pandey

जैसे अभी कल ही तो मिले थे,
समां था कितना प्यारा,
लगा के सीने से अपने,
किसी ने किया था अभिषेक हमारा,

थे साथ नवेंदु कई मगर,
ना सर पे माँ का आँचल था,
पर रवि प्रतीक उन दीपक से,
मॅन का हर कोना उज्जवल था,

रुला के हसन हँसा के रुलाना,
टूट जाए तो फिर उनका धीरज बंधना,
अमित खुशियों से नाचे मयूर मेरे मॅन के,
याद कर के उनका हमें कैंटीन ले जाना,

कैसे भूलूंगा वो Exams की टेंशन
आदित्य मयंक के साथ पढना-पढाना,
पीयूष बोली सदा दिल में अंकित रहेगी,
गुज़र जाये भले कॉलेज का जमाना,

हरफनमौला अदाओं से जीता
जिन्होंने हर दिल को,
कैसे रुक्सत का पायेंगे ,
इन शाक्सियत के बैसिल को,

मस्ती के पलों में जब भी
कोई युगल सुर से सुर मिलाएंगे,
हमें तो हमेशा कॉलेज के
फणीन्द्र और मंजू ही याद आयेंगे

साथ बाटी हैं हमनें खुशियाँ अपनी सारी,
वक़्त राकेश या निशांत लवनीत का हो,
किसी का कहाँ कोई डर है रहता,
जब आशीष स्वयम अजय चक्रेश का हो,

तमन्ना हमारी बस इतनी है तुमसे,
ना तोड़ना कभी आपसी प्रेम के धागे,
आज लगता है मुश्किल तुम्हे छोड़ पाना,
पर मंजिल तुम्हारी है सूरज से आगे,

यादें…
(पल जो शायद आप कभी भूल नहीं पाएंगे)
By: Shubhashish Pandey

वोलीबाल की गेंदे, वो क्रिकेट का बल्ला,
कट जाए जो लाईट तो टोपी पे हल्ला,
रात की तनहाइयों में वो आपस की बातें,
साथ बैठ के बनाना वो धुवें का छल्ला,

12 बजे रात में बर्थडे की लातें,
फिर लगा के सीने से देना सौगातें,

खोखे पे बैठ के वो चौपाल लगाना,
Juniors को जबरदस्ती के Funde पिलाना,
फिर अचानक ही कही से थी आवाज आती,
“पलट दो!-पलट दो!
वर्ना पराठा जल जायेगा मामा…”

गर्ल्स हॉस्टल पर हर रात का ग्रुप-Discussion
दिवाली-होली पर करना वो चन्दा collection;
वो जाडो की रातों में श्री राम की चाय,
जुली किसकी है ?? – करना इसपे compromisation,

हर पल में अपनी कहानी छुपी है,
मस्ती के दिन हो या DEC 31 की रातें,
याद आएगा वो बिता हुआ हर वो लम्हा,
याद करेंगे जब भी हम अपने कॉलेज की बातें

………………………….Shubhashish(2005)

 इस कविता में प्रयुक्त शब्द में से ज्यादातर शब्द मेरे seniours के नाम हैं कुछ नामो के अर्थ यहाँ दिए हैं !

नवेंदु => नया चाँद ,अमित => अपार, आदित्य => सूरज, मयंक => चाँद, पियूष => अमृत, बैसिल => राजा, राकेश = चाँद, निशांत => रात का अंत करने वाला, लवनीत => सूरज की पहलो किरण

8 Responses to “रुक्सत”

  1. kush अप्रैल 29, 2008 at 11:13 पूर्वाह्न #

    12 बजे रात में बर्थडे की लातें,
    फिर लगा के सीने से देना सौगातें,

    दिल को छू गयी ये रचना.. काफ़ी पुराने दिन भी याद आए.. बधाई

  2. mehek अप्रैल 29, 2008 at 11:54 पूर्वाह्न #

    girls hostel ka group discussion,12 baje tak birthday:);):),,movies,watchman ko pata ke nigh show jana,dusron ki aawaz nikal kar hazir hai kehna(jo nahi hoti),:):) kya din the ,wo din bhi masti,padhai,ladna,dosti,khushi,hansi ,ansoon,phir milne ka wada college ke baad jo kabhi pura nahi hua,aksar shayad ladke apne doston se milte ho,magar ladkiyan to shaadi ke baad kaha bas jati hai,bas phone ya net pe baat.

    hum to apni hi kehne lag gaye,bahut sundar yaadien yaadein hai aapki kavita mein,aakhir julie kiski hui ye nahi smajhe hum :):).

  3. समीर लाल अप्रैल 29, 2008 at 6:22 अपराह्न #

    🙂 मौके पर खूब फबी होगी यह रचना.

  4. shubhashishpandey अप्रैल 30, 2008 at 5:18 पूर्वाह्न #

    dhanyavad kush ji,

    mehek ji har kisi ka wahi haal hia tej bhagti zindagni ne paise ke liye sab kuchh bhula diya hai, tabhi to aaj hum blog likh ke 2 pal ka sukoon dhdhte fir rahe hain. Dhanyavad mehek ji .

    sahi kaha sameer ji ye sirf mere apne collage aur paristhitiyon ko dhayan me rakh ke likhi gayi rachna thi isliye us mauke par to bahut vishist rahi par aam logo ke liye shayad thoda sandarbhviheen hogayi hai.🙂 . dhanyavad yahan padharne ke liye

  5. mamta मई 3, 2008 at 8:25 पूर्वाह्न #

    i like ur poems to much… really these all are osum….. keep it up

  6. shubhashishpandey मई 3, 2008 at 11:23 पूर्वाह्न #

    mamta ji aap ko ye rachnaye pasand aayi iske liye bahut bahut dhanyvad,
    is hauslafzai ki zarurat aage bhi padti rahegi .
    Thanx🙂

  7. Kumar Varun जून 7, 2008 at 4:48 अपराह्न #

    Mitr Pandey,

    Sab kuch to theek hai

    Ruqsat se humne shuru kiya tha

    Yaadein bahut achhi hai

    Pat yaar 4th year khatam hote -2 pata hai halat bahut achhi nahi rah gayi thi aur isiliye tumne uss samay apne batch ke liye poem likhne se mana kar diya tha…
    Maine kaha tha tumse

    Par yaar ek kami to Khalati hai yaar

    ab likh do agar kuch likh sako to…

    Luv u

    Dil se…

  8. Shubhashish Pandey जून 8, 2008 at 12:57 अपराह्न #

    Haan yar baat to sahi hai tumhari

    Par aisi kavitao ko likhne ke liye mood factor ka hona bahut jaruri hai

    ye baat to sahi hai ki maine apne sath walo ke liye nahi likha. Shayad likhna chahiye tha ……. par wahi sab 3 saal itne achhe se gujarne ke baad sala last year utna achha nahin gaya

    Khair,
    ho saka to kabhi koshish karoonga kuchh likhne ko 🙂

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: