निशानी

2 जून

समझ नहीं आता की क्या कर डालूँ मैं
तुम्हें बदलने की कोशिश करूं या खुद को बदल डालूँ मैं

अब और यही दर्द नहीं सहा जाता मुझसे
दम तोड़ने दूं या खुद को संभालूँ मैं

जाने कब से बरसने को तरसते हैं बादल
रोकूँ उन्हें या अपना दामन भीगा डालूँ मैं

जीने नहीं देती, पर तेरी यही एक निशानी बाकी है
इस दर्द को सीने से क्या सोच के निकालूँ मैं
…………………………… Shubhashish(2007)

10 Responses to “निशानी”

  1. समीर लाल जून 2, 2008 at 2:57 अपराह्न #

    ये जालिम दर्द-न जीता है न जीने देता है.

  2. mehek जून 2, 2008 at 4:17 अपराह्न #

    na dard ko badle na nikale,bahut hi dil aziz bhav likhe hai is kavita mein,shayad har dil ke kisi kone mein basa,bahut hi sundar badhai

  3. anurag arya जून 4, 2008 at 7:43 पूर्वाह्न #

    जाने कब से बरसने को तरसते हैं बादल
    रोकूँ उन्हें या अपना दामन भीगा डालूँ मैं

    bahut badhiya…..

  4. Shubhashish Pandey जून 4, 2008 at 7:56 पूर्वाह्न #

    sameer ji, mehek ji aur anurag ji aap sabhi logo ko tahe-e-dil se shukriya

  5. limit जून 9, 2008 at 7:37 पूर्वाह्न #

    जाने कब से बरसने को तरसते हैं बादल
    रोकूँ उन्हें या अपना दामन भीगा डालूँ मैं
    “ah! so heart touching”

    “kya chatta hai dil-e-nadan sitamgar vo mujse,
    uskee yaad mey kya khud ko tbaah kr dalun mai,”

  6. Shubhashish Pandey जून 10, 2008 at 2:45 अपराह्न #

    seema ji aap ka aabhar, in panktiyon ke liye bhi bahut bahut shukriya

  7. Gaurav Bansal अप्रैल 14, 2009 at 11:44 पूर्वाह्न #

    Bhai pandey ji

    bahut khoob dost….

  8. Pushkar Chaubey जनवरी 14, 2011 at 10:57 पूर्वाह्न #

    bahut badhiya….

  9. M.Haryanvi जुलाई 15, 2012 at 7:36 अपराह्न #

    wah wah

  10. Shubhashish Pandey 'Aalsi' सितम्बर 4, 2013 at 2:20 अपराह्न #

    gaurav ji, pushkar ji evam M haryanvi ji bahut bahut shukriya

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: