कभी सोचा नहीं था

14 अप्रैल

कितनी बार तुने मेरा दिल दुखाया,
पर मैने तुझे कभी रोका नही था,
मैने तुझे दिल से चाहा था,
ये जज्बात का कोई झोंका नहीं था,
जब तुमने ठुकरा दिया तो लगा,
बस कुछ ही दिनो की बात है,
पर तुम जुदा हो के इतना याद आओगे,
दिल ने शायद कभी सोचा नहीं था|
………………………. Shbuhashish(2004)

8 Responses to “कभी सोचा नहीं था”

  1. देव प्रकाश चौधरी अप्रैल 14, 2008 at 10:53 पूर्वाह्न #

    शब्दों से खेलना आता है आपको। अच्छा लगा।

  2. Atul Kumar अप्रैल 14, 2008 at 11:08 पूर्वाह्न #

    बहुत खूब.

  3. ravindra.prabhat अप्रैल 14, 2008 at 3:25 अपराह्न #

    अत्यन्त सुंदर !

  4. mehhekk अप्रैल 14, 2008 at 5:12 अपराह्न #

    khub bhalo achhe

  5. anurag arya अप्रैल 15, 2008 at 5:25 पूर्वाह्न #

    khoob……

  6. kmuskan अप्रैल 15, 2008 at 11:14 पूर्वाह्न #

    बहुत सुंदर

  7. shubhashishpandey अप्रैल 15, 2008 at 1:29 अपराह्न #

    Dev Prakash ji,Atul ji, Ravindra ji, mehek ji , anurag ji aur muskan ji aap sabhi logo ka bahut bahut dhanyvad

  8. gopal अप्रैल 22, 2008 at 4:29 अपराह्न #

    Aap Ki Shayari mujhe Bagut Pasand aayi ho sake ko Please aap apni Shayari mujhe email kare mera Email hai :- http://www.lahotigopal@gmail.com
    Thanks

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: